आज का Hindi Urdu Word श्रृंखला में शब्द है "क़हक़हा"। इसका प्रयोग "गुलज़ार (Gulzar) की ग़ज़ल में भी किया गया है।

"क़हक़हा" शब्द का अर्थ खिलखिलाकर हँसना होता है। चलिए अब एक नज़र गुलज़ार साहब की ग़ज़ल की ओर डाल लेते हैं, जिसमें क़हक़हा शब्द का प्रयोग हुआ है।

Urdu words

Gulzar Ghazal In Urdu

दर्द हल्का है साँस भारी है,
जिए जाने की रस्म जारी है।

Dard Halka Hai Sans Bhari Hai,
Jiye Jane Ki Rasm Jari Hai.

आपके बाद हर घड़ी हमने,
आपके साथ ही गुज़ारी है।

Aapke Bad Har Ghadi Humne,
Aapke Sath Hi Guzari Hai.

रात को चाँदनी तो ओढ़ा दो,
दिन की चादर अभी उतारी है।

Rat Ko Chandani To Odha Do,
Din Ki Chadar Abhi Utari Hai.

शाख़ पर कोई "क़हक़हा" तो खिले,
कैसी चुप सी चमन पे तारी है।

Shakh Par Koi Kahkaha To Khile,
Kaisi Chup Si Chaman Pe Tari Hai.

कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था,
आज की दास्ताँ हमारी है।

Kal Ka Har Wakia Tumhara Tha,
Aaj Ki Daastan Humari Hai.

Read More Words

Buy Rhyming Dictionary

Conclusion :- आज Hindi Urdu Words में हमने "क़हक़हा" का अर्थ और इसका प्रयोग गुलज़ार की ग़ज़ल (Gulzar ghazal) को प्रस्तुत करके बताया। ऐसे ही Urdu Words Daily के लिए हमारी Website को visit करते रहें और Share करते रहे।

Topic :- daily hindi urdu words, shabd sangrah, gulzar ghazal etc.

Post a Comment

Previous Post Next Post