आज का Hindi Urdu Word श्रृंखला में शब्द है "लबरेज़"। इसका प्रयोग "फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ (Faiz Ahmad Faiz) की ग़ज़ल में भी किया गया है।

"लबरेज़" का अर्थ भरा हुआ या छलकता हुआ होता है। अब एक नज़र फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की ग़ज़ल की ओर डाल लेते हैं, जिसमें लबरेज़ शब्द का प्रयोग हुआ है।

Urdu words

Faiz Ahmad Faiz Ghazal In Urdu

हैं लबरेज़ आहों से ठंडी हवाएँ,
उदासी में डूबी हुई हैं घटाएँ।

Hain Labrez Aahon Se Thandi Hawayen,
Udasi Me Dubi Hui Hain Ghatayen.

मोहब्बत की दुनिया पे शाम आ चुकी है,
सियह-पोश हैं ज़िंदगी की फ़िज़ाएँ।

Mohbbat Ki Duniya Pe Sham Aa Chuki Hai,
Siyah-Posh Hain Zindagi Ki Fizayen.

मचलती हैं सीने में लाख आरज़ुएँ,
तड़पती हैं आँखों में लाख इल्तिजाएँ।

Machalti Hain Sine Me Lakh Aarzuyen,
Tadapti Hain Aankhon Me Lakh Iltizayen.

तग़ाफ़ुल की आग़ोश में सो रहे हैं,

तुम्हारे सितम और मेरी वफ़ाएँ।

Tagaful Ki Aagosh Me So Rahe Hain,
Tumhare Sitam Aur Meri Wafayen.

मगर फिर भी ऐ मेरे मासूम क़ातिल,
तुम्हें प्यार करती हैं मेरी दुआएँ।

Magar Fir Bhi Aye Mere Masum Katil,
Tumhe Pyar Karti Hain Meri Duaayen.

Read More Words

Buy Rhyming Dictionary

Conclusion :- आज Hindi Urdu Words में हमने "लबरेज़" का अर्थ और इसका प्रयोग फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की ग़ज़ल (Faiz Ahmad Faiz ghazal) को प्रस्तुत करके बताया। ऐसे ही Urdu Words Daily के लिए हमारी Website को visit करते रहें और Share करते रहे।

Topic :- daily hindi urdu words, shabd sangrah, faiz ahmad faiz ghazal etc.

Post a Comment

Previous Post Next Post