आज का Hindi Urdu Word श्रृंखला में शब्द है "पुर-कैफ़"। इसका प्रयोग "जाँ निसार अख़्तर (Jan Nisar Akhtar) की ग़ज़ल" में भी किया गया है। "पुर-कैफ़ शब्द का अर्थ सुरूर या नशे से भरा हुआ" होता है। चलिए अब एक नज़र Jan Nisar Akhtar की Urdu Ghazal की ओर डाल लेते हैं।

Urdu words

Jan Nisar Akhtar Ghazal In Urdu

आहट सी कोई आए तो लगता है कि तुम हो,

साया कोई लहराए तो लगता है कि तुम हो।

Aahat Si Koi Aaye To Lagta Hai Ki Tum Ho,

Saya Koi Lahraye To Lagta Hai Ki Tum Ho.

जब शाख़ कोई हाथ लगाते ही चमन में,

शरमाए लचक जाए तो लगता है कि तुम हो।

Jab Shakh Koi Hath Lagate Hi Chaman Me,

Sharmaye Lachak Jaye To Lagta Hai Ki Tum Ho.

संदल से महकती हुई "पुर-कैफ़" हवा का,
झोंका कोई टकराए तो लगता है कि तुम हो।

Sandal Se Mahakti Hui Pur-Kaif Hawa Ka,
Jhonka Koi Takraye To Lagta Hai Ki Tum Ho.

ओढ़े हुए तारों की चमकती हुई चादर,
नदी कोई बल खाए तो लगता है कि तुम हो।

Odhe Hue Taaron Ki Chamakti Hui Chadar,
Nadi Koi Bal Khaye To Lagta Hai Ki Tum Ho.

जब रात गए कोई किरन मेरे बराबर,
चुप-चाप सी सो जाए तो लगता है कि तुम हो।

Jab Rat Gaye Koi Kiran Mere Barabar,
Chupchap Si So Jaye To Lagta Hai Ki Tum Ho.

Read More Words

Buy Rhyming Dictionary

Conclusion :- आज Hindi Urdu Words में हमने "पुर-कैफ़" का अर्थ और इसका प्रयोग जाँ निसार अख़्तर की ग़ज़ल (jan nisar akhtar ghazal) को प्रस्तुत करके बताया। ऐसे ही Urdu Words Daily के लिए हमारी Website को visit करते रहें और Share करते रहे।

Topic :- daily hindi urdu words, shabd sangrah, jan nisar akhtar ghazal etc.

Post a Comment

Previous Post Next Post