आज पेश करते हैं "Rose Day Shayari" वेलेंटाइन वीक के लिए। अगर आप भी रोज़ डे पर शायरी ढूंढ रहे हैं, तो आज मैं लेकर आया हूँ Love Shayari का पूरा संग्रह आपके लिए। पढ़के share करें और हमारे आने वाले ब्लॉग्स को पढ़ते रहें।


हमने कोशिशें तमाम की वफ़ा के लिए,

हाथ खड़े रहे हमेशा तेरी दुआ के लिए,

इसीलिए इश्क का असर ख़राब मत लाना,

इस बार मुरझाया हुआ गुलाब मत लाना।


किसी शायरी या कहीं जब तेरा ज़िकर आया,

नशा इश्क का आंखों में नज़र आया,

हम पीते नहीं हैं तुम शराब मत लाना,

इस बार मुरझाया हुआ गुलाब मत लाना।


रिश्ते नहीं चलते बातों पर अड़े रहने से,

चलते फ़िज़ूल बातों को अनदेखा करने से,

गुस्से में तुम पुराना हिसाब मत लाना,

इस बार मुरझाया हुआ गुलाब मत लाना।



इश्क किया तो हक के दावेदार भी रहे,

इज्जतदार के साथ-साथ वफ़ादार भी रहे,

तुम वफ़ा में बेवफाई का नकाब मत लाना,

इस बार मुरझाया हुआ गुलाब मत लाना।


बदलते नहीं कभी-कभी बस बहकते हैं,

कहे हुए जज्बातों को अच्छे से समझते हैं,

इसीलिए मेरी ही लिखी हुई किताब मत लाना,

इस बार मुरझाया हुआ गुलाब मत लाना।


- कवि योगेन्द्र "यश" 


आपको ये "Rose day shayari" दिल से अच्छी लगी हो, तो यहां आकर शायरियों का आनंद उठाते रहें। 

Post a Comment

Previous Post Next Post