Story Writing Format | Hindi Me Kahani Ka Format 

लेखन टिप्स के इस मंच पर लेखकों का स्वागत है। story writing में हमने लगभग सभी topic cover कर लिए हैं। लेकिन आज हम "Story Writing Format" पर बात करने वाले हैं। आये दिन हमसे हमारी community के रचनाकार story ka format पूछते रहते हैं। वैसे ये पूछना वाजिब भी है क्योंकि हर चीज को बनाने का और लिखने का एक format हुआ करता है। story लिखने से पहले आपको उसका format भी समझना जरूरी होता है। बिना इसके format को जाने आप कभी एक सही way में story नहीं लिख पाएंगे। तो चलिए जानते हैं story writing के format के बारे में

Format Of Story Writing

story writing format in hindi

Writers, हम story writing को कुछ steps में devide कर रहे हैं ताकि आप एक अच्छी कहानी आसानी से लिख सकें ये steps निम्नलिखित है-

1. Roughly work : सबसे पहले आपको Story Writing के लिए roughly work करना होगा। मान लीजिये आपके दिमाग में एक story है या एक घटना है जिसे आप लिखने का सोच रहे हैं। बस जिस तरह से आप उसे किसी को सुनाना चाह रहे हैं, उसे उसी तरह एक डायरी में उतार लें। ऐसा करने से story का main material आपको मिल जाएगा। बस उसके बाद आपको उसे लिखके किस तरह present करना है वही सोचना रहेगा। तो सबसे पहले ये काम जरूर करें। इसे लिखते समय आप बिल्कुल घबराये नहीं क्योंकि ये हम roughly work कर रहे हैं और उस situation में कर रहे हैं जब हमें story writing के format के बारे में नहीं पता होगा।

2. Fade In & Introduce : शायद आपने इस word को film script writing में सुना हो। fade in का मतलब होता है किसी भी seen को धीरे-धीरे प्रकट करना। बस यही point हमने story लिखने के लिए सबसे पहले ध्यान रखनी चाहिए। आपको अब पहली line लिखने की शुरुआत करनी है। अगर आप कहानी की शुरुआत किसी main character के साथ कर रहे हैं, तो शुरुआत में उसको introduce करते हुए पहली दूसरी line को लिखें। जैसे आप class 10 आदि में stories पढ़ा करते थे, तो आप ये भी जानते होंगे कि उसकी पहली line क्या थी।

3. Share In Scenes : अब आपको story के content को scene के हिसाब से बांटना होगा क्योंकि आप भी जानते हैं scene के बिना story का कोई अर्थ नहीं रहता। इसलिए आप छोटे-छोटे scene को अच्छे से write करें। यही आपकी story को अच्छी और बेहतर बनाने में helpful रहेंगे।

4. Add Scenes : आपको क्रमबद्ध तरीके से scene को ऐसे जोड़ते हुए चलना कि उसमें problems के साथ-साथ suspense भी बरकरार रहे। scene भी हर किसी तरीके से नहीं जोड़े जाते बल्कि उनका भी भावार्थ के अनुसार जुड़ाव होना चाहिए। पढ़ने वाले को समझ आना चाहिए कि story का scene कब कहां जा रहा है।

5. Ending With Moral : अब आपको story का अंत लिखना जरूरी रहता है। कई नवीन रचनाकार story तो लिखते हैं लेकिन उसकी ending moral के साथ नहीं करते जिसकी वजह से उनकी कहानी ज्यादा impressive नहीं लगती। इसलिए आपको इस point को कभी ignore नहीं करना चाहिए। यहां तक story पढ़ने वाला इसीलिए आपके साथ सक्रिय रहेगा क्योंकि वो आगे इसका moral जानना चाहता है। तो उसे satisfied करने के लिए आपको ending with moral को ध्यान में रखते हुए चलना होगा।

तो writers, आज की इस story writing से जुड़ी post में हमने "story writing format" के बारे में जाना। उम्मीद है story का format बताने में हम जरूर सफल रहे होंगे। अगर इसी तरह की post आप आगे भी पढ़ना चाहते हैं, तो ऐसे ही हमारी वेबसाइट से जुड़े रहिये।

- लेखक योगेन्द्र "यश"

Post a Comment

Previous Post Next Post