Ganesh Chaturthi Shayari | Ganesh Ji Shayari

खुशियों से झोली भर लो जी,
स्वीकार प्रार्थना कर लो जी,
मिल जाये आशीष तुम्हारा,
विघ्न हमारे हर लो जी।

उजड़ा सा जो घर हमारा आज चमन होने को है,
खास अतिथि का हमारे आगमन होने को है।

पुष्प चढ़ाओ, मोदक लाओ,
गणपति बप्पा आये हैं,
एक वर्ष के बाद फिर से
वही दौर सा लाये हैं।

Ganesha ji shayari

शुभ कार्य में पहला वंदन,
करते हैं हम पार्वती नंदन,
स्वीकार निमंत्रण करना,
आपका करते हैं अभिनन्दन।

मनःकामना सबकी पूरी करते हैं,
खुशियों से सबकी झोली भरते हैं,
हम जो सच्चे मन से याद करें तो,
अवरोध हमारे सभी टलते हैं।

कोई किसी को ना मजबूर करें,
हे गणेश आप सबके संकट दूर करें।

मुख है गज के समान,
बनके आते हैं मेहमान,
पूरे करते हैं अरमान,
प्रथम पूज्य है जिनका स्थान,
वो है गजानन भगवान।

लगता अपनापन जब आते हैं घर आंगन,
हो जाते पराए जब होता है विसर्जन।

घर में रौनक लाते हैं,
वो जब भी घर पे आते हैं,
चलता रहता है कीर्तन
भजन उन्हीं के गाते हैं।

भोग लगे है लड्डू का और लड्डू घर-घर बंटते हैं,
गणपति बप्पा मोरया बच्चे दिन भर करते हैं।

कितनी सुंदर मूरत लाई,
अपने हाथों से सजाई,
आप सभी को मेरी ओर से,
गणेश चौथ की हो बधाई।

- योगेन्द्र "यश"

Post a Comment

Previous Post Next Post