छंद मुक्त कविता क्या है और कैसे लिखें

दोस्तों, आज के इस लेख में हम "छंद मुक्त कविता क्या है और कैसे लिखें" के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। इसलिए अगर आप भी इसके बारे में जानने के इच्छुक हैं, तो आप छंद मुक्त कविता से जुड़े इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें।

छंद मुक्त कविता क्या है

kavita kaise likhe


सबसे पहले हम छंद मुक्त कविता क्या है ये जानेंगे। क्योंकि आपको लिखने से पहले ये जानकारी होनी चाहिए। दोस्तों, छंद मुक्त कविता उस कविता को कहते हैं, जो छंद के नियमों से स्वतंत्र रहती है। जिसे बिना छंद के नियमों को ध्यान में रखकर लिखा जाता है। लेकिन आज के वक्त में लोग छंद मुक्त कविता का अर्थ गलत समझ लेते हैं। वो इसलिए क्योंकि छंद मुक्त कविता छंद से मुक्त होती है। लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि उसमें शब्दों के अनुशासन पर ध्यान न दिया जाए। छंद मुक्त कविता भले ही छंद के नियमों से मुक्त रहती है। लेकिन ऐसी कविताओं में भी हमें शब्दों के अनुशासन को ध्यान में रखना चाहिए। तो दोस्तों, आपको ये जानकारी तो हो गई होगी कि छंद मुक्त कविता क्या होती है।

छंद मुक्त कविता कैसे लिखें

कविता भला कौन नहीं लिखना चाहता। हर व्यक्ति अपने जीवन में एक बार कविता लिखने का तो सोचता ही है। लेकिन छंद का ज्ञान न होने से उन्हें यही डर खाता है कि वो कविता नहीं लिख सकते। अगर आपको भी ये डर खाता है, तो आप इस डर को अभी दूर कर लें। क्योंकि ये कविता लिखने का पहला स्तर है। कोई भी कवि सीधे ही छन्दबद्ध कविता नहीं लिखता है, बल्कि वो छंद मुक्त कविता से ही शुरुआत करता है। इसलिए अगर आपने अब तक कविता लिखने की शुरुआत नहीं कि है, तो आप भी छंद मुक्त कविता लिखने की शुरुआत कर लीजिए।

छंद मुक्त कविता लिखने के लिए आपको छंद के नियमों का ध्यान नहीं रखना है। हां लेकिन आपको शब्दों के अनुशासन को हमेशा ध्यान में रखना होता है। क्योंकि जब आप शब्दों के अनुशासन को ध्यान में नहीं रखकर शब्दों को जबरदस्त ठूस देते हैं, तो आपकी कविता सही नहीं होती है। छंद मुक्त कविता लिखने के लिए आप दो तरह से इसे लिख सकते हैं पहली अतुकांत कविता जिसमें तुकांत शब्दों की जरूरत नहीं होती और दूसरी तुकांत कविता जिसमें तुकांत शब्दों की जरूरत होती है।

kavita kaise likhte hai


आपको सबसे पहले अतुकांत कविता से शुरुआत करनी चाहिए। क्योंकि इसमें आप अपने मन के भावों को सीधे ही गद्य तरीके से स्वतंत्र रूप से लिख सकते हैं, बस आपको इस कविता को एक सही ढांचे में व्यवस्थित करना होता है। अगर आपको नहीं पता है कि अतुकांत कविता कैसे लिखी जाती है, तो आप हमारा लेशन "अतुकांत कविता कैसे लिखें" जरूर पढ़ें।

जब आप अतुकांत कविता लिखना सीख जाएं, तो आप अपने स्तर को बढ़ाएं और आप तुकांत कविता लिखना शुरू करें। इसके लिए आपको कई तरह के तुकांत शब्द मिल जाते हैं। तुकांत शब्द आप हमारी वेबसाइट पर भी देख सकते हैं। आपको केवल दो-दो पंक्ति सबसे पहले लिखनी चाहिए ताकि आप तुकांत शब्दों का प्रयोग करना सीख जाएं। इसके बाद आप पूरी कविता लिखें। तुकांत कविता कैसे लिखी जाती है इसके लिए आप हमारा लेशन "तुकांत कविता कैसे लिखें" जरूर पढ़ें।

क्या छंद मुक्त कविता लिखना सही है

इस बात का ज़िक्र मैंने पहले ही कर दिया है कि कविता लिखने का पहला स्तर छंद मुक्त कविता ही होता है। हां, लेकिन ये आप पर निर्भर करता है कि आप अपने लिखने के स्तर को बढ़ाना चाहते हैं या नहीं। मान लीजिए आप कई वर्षों तक अतुकांत कविता लिखते रहते हैं और अच्छी लिखने लग जाते हैं तब आपको अपने स्तर को बढ़ाना चाहिए। तब आपको छंद सीख लेने चाहिए। अपने सीखने का स्तर आप खुद निश्चित करते हैं।

तो दोस्तों, आशा करता हूँ ये लेख "छंद मुक्त कविता क्या है और कैसे लिखें" आपके लिए जरूर सहायक रहा होगा और ये भी आशा करता हूँ कि कविता लेखन में ये लेख आपके डर को जरूर खत्म कर देगा।

- लेखक योगेन्द्र जीनगर "यश"

1 Comments

Post a Comment

Previous Post Next Post