क्या हो तुम कविता

फूलो में सबसे सुंदर गुलाब हो तुम
हूरो के मस्तक का ताज हो तुम
मेरी पूजा हो, अरदास हो तुम
जो जुबां से हटती नही अब,
वो सुरीली राग हो तुम..
क्या लिखूं...की क्या हो तुम!


दिल मे हो तो एहसास हो तुम
जुबा से जो उतरते नही
वो अल्फ़ाज़ हो तुम
मेरे प्रेम गीतों का
एक साज़ हो तुम
जो किसी से मैं कहता नही..
बस वही बात हो तुम..।।
क्या लिखूं, की क्या हो तुम!

सूखे बागों में जैसे
सावन की बहार हो तुम
जो तुम्हे कागज़ों पर उतारू..
तो पूरी किताब हो तुम
पहली दफा का इश्क़ है प्रिये..
जिससे बस अनजान हो तुम
जिसका कभी इज़हार न हुआ मुझसे
हाँ मेरा वो प्यार हो तुम..।

- सागर पाटीदार

Post a Comment

Previous Post Next Post