जिंदगी की भागदौड़

भाग रहे सभी जिंदगी की इस भागदौड़ में
रेलवे एसएससी बैंक की होड़ में

अव्वल वही जिसके पास पैसा है
या दिमाग उसका न्यूटन फैराडे जैसा है


बी. ए. बी. एस. सी. बी. कॉम.
भी लगे सफाई कर्मचारी की लाइन में 

एम. ए. एस. एस. सी. एम. कॉम.
भी लगे सफाई कर्मचारी की लाइन में

कर रहे जो एसएससी बैंक की तैयारी प्रेजेंट टाइम में
पढ़ते पढ़ते आंखे लाल हो गई युवाओं की

पर दूर दूर तक खबर नही है नौकरी की छांव की
मारे चिंता के गिर गए सर के सारे बाल
नोच लिया बदन सारा तन से तारे खाल
डिग्रियों का लगाये बैठे हैं ढेर
सोच के यही अरे कोई तो
सुनेगा हमारी भी देर सवेर
पर कोई नही इनकी सुनने वाला है

लगता है दाल में कुछ काला है
लगता है दाल में कुछ काला है

Suryabhan singh nirbhay

Post a Comment

Previous Post Next Post