Selfie poem in hindi

सेल्फी के इस युग में जिन्दगी इतनी सस्ती हो गई है,           
अब तो हर खतरा एक मस्ती हो गई है। 
                      
आज हम बेवजह खतरों के सिकन्दर बने फिरते है,             
जहाँ बारी आती है रिस्क लेने की वहाँ से चुपचाप खिसकते है।

Selfie poem
                                                         
अब शायद हमारी दुनिया इसी के इर्द-गिर्दबसने लगी है,
जीवन की वास्तविकता इसमें धँसने लगी है।         
     
आज अनहोनी घटनाऎ घटने लगी है,
युवाओ की चेतना सोने लगी है।                                       
गुलाम होकर इसके मोह में बँध गया है,
जीवन का मकसद छोडकर इसमें रम गया है। 
          
- शोभा

Post a Comment

Previous Post Next Post