तीन मुक्तक -

कि मैं हरदम तुम्हारे प्यार को इक मान दे दूंगी
बना रिश्ता नया जो ये उसे सम्मान दे दूंगी
कभी आए हमारे पास जो मिलने की चाहत से
तभी पहना तुम्हें राखी नई पहचान दे दूंगी

Hindi muktak

मंजिलों की चाह में, घर से दूरी होने लगी
आज मेरी जिंदगी में, नइ सुबह होने लगी
है अभी उम्मीद छू, लूंगी बुलंदी मै कभी
देख मेरी कोशिशें, ये किस्मतें रोने लगी

Muktak in hindi

साथ हो जो नेह मां का बाप का आशीष हो
भारती मां के लिए कृपाण पे भी शीष हो
सत्य से पीछे हटूं मैं हो कभी ऐसा नहीं
देश के सम्मान में न्योछार मेरा शीष हो

- इति शिवहरे

1 Comments

Post a comment

Previous Post Next Post