सुविचार-

बोझ झेलने की हिम्मत कंधे में नहीं
बन्दे में होनी चाहिए...

Bojh jhelne ki himmat kandhe me nahi
Bande me honi chahiye...


© कवि योगेन्द्र जीनगर "यश"
पसन्द आए तो कृपया इस फोटो को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

Post a Comment

Previous Post Next Post