Breaking

Sunday, 16 May 2021

01:59

पूछताछ

नमस्ते दोस्तों, आज हम आपकी समस्याओं पर समाधान के लिए एक ओनलाइन प्लेटफोर्म तैयार कर रहे हैं, जहां आप लेखन से संबंधित सभी समस्याओं पर अपना जवाब पा सकेंगे। अगर आपकी लेखन से जुड़ी कोई भी समस्या है, तो आप हमें इस पोस्ट के नीचे दिए गए कमेंट बाॅक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं। आपके प्रश्न का जवाब हम सुबह 10 से 12 और शाम 5 से 6 बजे के मध्य में देने का प्रयास करेंगे। यूट्यूब चैनल के कमेंट में पूछे गए प्रश्नों का जवाब हम नहीं दे पाएंगे। आपसे निवेदन है आप हमें इस प्लेटफोर्म पर अपने प्रश्न पूछें।

धन्यवाद।

पूछताछ

Saturday, 21 September 2019

05:53

2 Sad Poetry In Hindi

2 Sad Poetry In Hindi

चली जाओ मुझे छोड़ कर पर तुम्हे राहत ना मिलेगी, 
अनमोल है ये दौलत ये दौलत ना मिलेगी।

इस बेवफाई का तुम्हे होगा जब ख्याल,
तब तुम्हे ज़माने मे मोहब्बत ना मिलेगी।

चलो मान लिया के मिल गयी तुम्हे मोहब्बत,
पर उस झूठी मोहब्बत मे तुम्हे इज्ज़त ना मिलेगी।

ढूंढ लेना इस जहाँ में तुम तुम्हे मेरे जैसी चाहत गर मिले,
चाहत के लिए तुम्हे मेरे जैसी शख्सियत ना मिलेगी।

Sad poem

मेरे निहारने से तुम्हे जो मिलती थी रंगत,
उसके साथ तुम्हे वो रंगत ना मिलेगी।

चलो मान लिया के तुम्हे मिल भी गयी रंगत,
पर तुम्हे पहले जैसी शौहरत ना मिलेगी।

मेरे बाद मिल तो गये होगे तुम्हे कई चेहरे,
तुम्हे मुझसी आदत न मिलेगी।

चलो मान लिया मिल भी गयी आदत,
पर मेरे जैसी मासुमियत ना मिलेगी।

- Er Nazim irshad khan

कैसे कह दे कि गम नहीं होता,
दर्द रोकर भी कम नही होता।

जख्म दिलके अजीब होते हैं,
जख्मे दिल का मरहम नहीं होता।

बड़े होते हैं दिल जिगर जिनके,
उनके दिल में अहम नहीं होता।

राज छुपता नहीं छुपाने से,
राज सबको हजम नहीं होता।

लाख अनबन हो यार अपनो से,
रिश्ता खून का खतम नहीं होता।

भँवरे होते हैं असल में दिवाने,
हर दिवाना बलम नहीं होता।

जिंदगी एकबार मिलती है,
फिर दोबारा जनम नहीं होता।

- श्रीनिवास गेडाम

Thursday, 19 September 2019

01:05

दिए गए छायाचित्र 5 पर श्रेष्ठ रचना

दिए गए छायाचित्र 5 पर श्रेष्ठ रचना 

Shayari in hindi

ज़माने के सामने तुझे अपना बनाना चाहता हूँ,
बहारों में फूलों के साथ एक घर बसाना चाहता हूँ,
बड़े दिन हुए कि अपना दर्द सुनाया नहीं अभी तक,
बाहों में तुझे लेकर मैं अपना दर्द सुनाना चाहता हूँ।

- अजित दास

Sunday, 15 September 2019

04:41

दिए गए छायाचित्र 4 पर लिखी गई श्रेष्ठ रचना

दिए गए छायाचित्र 4 पर लिखी गई श्रेष्ठ रचना

मेहन्दी सिर्फ रचाई नहीं,
मोहब्बत भी जताई नहीं।

फिर भी पिया से प्यार किया,
हमने कभी ना इन्कार किया।

Kavita mehandi

जिससे जोड़ा हमने नाता,
सुन सबका मैं साथ निभाता।

बस परमेश्वर माना नहीं,
अभी उनको हमने जाना नहीं।

सखी पहले स्वप्न लगती थी,
आशा की एक किरण जगती थी।

- Aatish Nikose

Saturday, 14 September 2019

21:23

सुविचार इन हिंदी

सुविचार इन हिंदी

Suvichar hindi me

बूढ़ी मां के चश्मे के नम्बर बढ़ने पर बेटा पैसा खर्च करने के लिए सौ बार सोचता है
लेकिन गाड़ी के मनचाहे नम्बर लेने के लिए वो हज़ारों रुपये खर्च कर देता है।

- लेखक योगेन्द्र "यश" 
01:34

हिंदी दिवस पर कविता | हिंदी कविता

हिंदी दिवस पर कविता | हिंदी कविता 

जन्म लिया जिसके आँगन में जिसके गोद में बड़ा हुआ,
हिंदी हो तुम माँ की जैसी तेरे सहारे खड़ा हुआ।

भले त्रुटियां हो मुझमें मैं अभी तुम्हारे लायक नहीं,
माँ को छोड़ चला जाऊं मैं ऐसा पुत्र नालायक नहीं।

Hindi kavita

रोम रोम में बसती है तू कैसे तेरा तिरस्कार करूँ,
तुझसे जुड़ा है मेरा भोजन तेरी ही जयकार करूँ।

अंग्रेजी से डर लगता है छड़ी तान कर खड़ी है वो,
देखो कैसे झुठलाती है कहती है तुझसे बड़ी है वो।

खुश होते हो कैसे कह कर इंग्लिश का झंडा गाड़ दिया,
जिस आँचल में पले बड़े उस आँचल को ही फाड़ दिया।

हम हैं तेरे सेवक माता क्यों तुम छुप कर रोती हो,
देश के सारे लोगों को तुम एक धागे में पिरोती हो।

भारत है एक सुंदर काया भाल पे जैसे बिंदी है,
नेह प्रेम की मूर्ति लगती माँ की जैसी हिंदी है।
                                   
- समुन्दर सिंह

Friday, 13 September 2019

00:10

Hindi Diwas Speech | हिंदी दिवस भाषण

Hindi Diwas Speech | हिंदी दिवस भाषण

हिंदी दिवस के अवसर पर हिंदी की पीड़ा हम सभी को समझनी चाहिए। दोस्तों, आज हमें हिंदी के अस्तित्व को बचाने की जरूरत है, क्योंकि इसी से हमारा अस्तित्व हमारे देश में है। आज एक सोच भाषा के प्रति लोगों की बदल चुकी है, जो हिंदी के अस्तित्व पर खतरे का काम कर रही है। एक बात ध्यान रखें भाषा से कोई व्यक्ति बड़ा या छोटा नहीं होता। वर्तमान में यदि हमारे देश में कोई भाषा सबसे ज्यादा बोली और समझी जाती है, तो वो है हिंदी।

Hindi diwas speech

यदि आप किसी अन्य भाषा को समझने या सीखने का प्रयास भी करते हो, तो आप इस भाषा के बिना उसे कभी नहीं समझ पाओगे, क्योंकि ये हमारी मातृ भाषा है और ये आपकी मदद करेगी। फिर कैसे आप इसके महत्व को भूल सकते हैं। एक समय था जब हर क्षेत्र में छोटे बच्चे अपनी क्षेत्रीय भाषा बोला करते थे, तब हिंदी बोलने वालों को एक बड़े दृष्टिकोण से देखा जाता था। लेकिन आज अंग्रेजी आने के बाद सभी बच्चों की जुबान पर अंग्रेजी ही लाना चाहते हैं। भाषा के साथ ये कैसा खिलवाड़ हम सभी कर रहे हैं।

भाषा से देखें तो सबका इसके प्रति नज़रिया ही बदल चुका है। समझने की कोशिश कीजिये भाषा एक अभिव्यक्ति का माध्यम होता है, जिससे हम हमारी बात को किसी को समझा पाते हैं। भाषा को बदलके आप किसी के विचारों को, तो नहीं बदल पाएंगे। वो तो वही रहेंगे, जो हैं। फिर इस अभिव्यक्ति के माध्यम के साथ हम इतना खिलवाड़ क्यों कर रहे हैं। भाषाओं का ज्ञान लेना गलत नहीं। लेकिन क्या भरोसा आप आने वाले समय में और किसी भाषा को महत्व देकर आज की भाषाओं के साथ भी यही करें। इसीलिए आपको भाषा का महत्व समझना चाहिए। हमारे राष्ट्र के निर्माण में हिंदी भाषा ने नींव की ईंट का काम किया है। यदि वर्तमान में हमारी संस्कृति और हमारे संस्कार जिंदा है, तो उसमें कहीं न कहीं हिंदी का भी हाथ रहा है।

हमारी इस भाषा में ऐसे ऐसे उपन्यास और महाकाव्य लिखे गए हैं, जिन्हें पढ़ने के बाद इस भाषा के असली सौंदर्य का पता चलता है। यदि हम हिंदी के अस्तित्व के बचाव के लिए कुछ करना चाहते हैं, तो हमें हिंदी को लिखने और बोलने के साथ-साथ इसे ज्यादा से ज्यादा पढ़ना भी होगा। हमें इसकी गद्य और पद्य रचनाओं को पढ़के इसके असली सौंदर्य से परिचित होना चाहिए। दोस्तों, आप यदि तकनीकी युग में मोबाइल, इंटरनेट आदि का उपयोग करते हैं, तो आप हिंदी में type करके हिंदी को बढ़ावा दें। आप आज ही अपने मोबाइल में google indic keyboard को install करलें ताकि आप तकनीकी युग में भी हिंदी को जीवित रख पाएं।

- लेखक योगेन्द्र "यश"