Writing poems|kavita|gazal|shayari|kahani|geet|kaise likhe|literature news|biography|books review|books promotion

Breaking

Wednesday, 8 January 2020

26 January Speech In Hindi | 26 January 2020 Speech

26 January Speech In Hindi | 26 January 2020 Speech

वेलकम देशवासियों, जैसा कि 26 जनवरी 2020 आने वाला है और आप 26 जनवरी के लिए भाषण की मांग कर रहे हैं। आज की इस पोस्ट में "26 January Speech In Hindi, 26 January 2020 Speech" आपके साथ साझा कर रहा हूँ। गणतंत्र दिवस के लिए भाषण के लिए आप हमारी इस पोस्ट को पूरा पढिये और अपने दोस्तों के साथ भी share करें।

सर्वप्रथम मां शारदे को नमन और मंच को प्रणाम। सभी देशभक्तो से एक बात कहना चाहूंगा कि आप इसे मेरा भाषण ना समझे क्योंकि हकीकत में ये मेरे हृदय के भाव हैं, जो मैं आज इस मौके पे व्यक्त कर रहा हूँ। आज 26 जनवरी है और हम इसे 70 सालों से क्यों मनाते आ रहे हैं ये आप भली भांति जानते हैं और इस वर्ष हम 71वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं। संविधान लागू होने के अवसर पर हम इस दिन को बड़े-बड़े आयोजन करके मनाते हैं।

26 january 2020 speech

असल में आप देखिए क्या हमारे देश में संविधान लागू होने के बाद संविधान का पालन किया जा रहा है? जी नहीं, कहीं न कहीं हमारे देश में आज भी ऐसे कई अपवाद हैं, जो हमारे देश के आजाद होने का भाव हमारे हृदय में आने नहीं देते और आज भी एक डर हृदय में बना रहता है। आखिर कब तक हमारा संविधान इस हालात में रहेगा कि खरपतवार इसे अनदेखा करते रहेंगे। नारी शक्ति आज कितनी पीड़ित है और उनकी समाज में क्या दशा बनी हुई है ये बात किसी से छिपी हुई नहीं है और ना ही आपसे।

मैं बात कर रहा हूँ हमारे संविधान की जिसे अपराधी प्रवृत्ति के लोग महत्व नहीं देते। मुझे ये बताया जाए हमारा देश उन्हें क्या कुछ नहीं दे रहा। अच्छी शिक्षा, अच्छे व्यक्तित्व के लोग और अपने अधिकार। हालांकि ऐसे भी कई लोग हैं जिन्हें अपने अधिकार नहीं मिल पा रहे हैं। लेकिन वो भी एक अच्छे देशभक्त की तरह अपने अधिकार को पाने की क्षमता रखें वही एक सच्चा देशभक्त होगा। क्यों आखिर नकारात्मक सोच से सब पाने की चाह रखी जा रही है। क्या सकारात्मकता से कुछ पाया नहीं जा सकता?

अगर देश का हर नागरिक हमारे देश के संविधान की रक्षा करें और पालन करें, तो ये देश एक स्वर्ग बन जायेगा। सकारात्मक सोच के साथ चलके अपने कर्तव्यों को पूरा करना संविधान का पालन करना है। देश के हर नागरिक के हित का सोचना और देशहित के लिए सोच रखते हुए चलना संविधान का पालन करना है। 26 जनवरी हम हर साल मना रहे हैं केवल इसलिए नहीं कि हम कुछ घण्टे का कार्यक्रम देशभक्ति के साथ मनाकर फिर उसी रवैय्ये में आ जाये। ये दिन तो वो दिन है जब हमें ये मनन करना होगा कि संविधान के पालन में क्या अवरोध आ रहा है और हमें उसे कैसे सुलझाना है। इस दिन से तो हमें एक नई योजना को रूप देकर एक नए जोश के साथ देश में सुधार के लिए जुड़ना होगा। मैं हर बार कहता हूँ इसके लिए आप चाहे किसी भी क्षेत्र में काम करते हों बस अपने काम को सर्वहित और देशहित के लिए सोचते हुए करते जाइये आपका काम होता जाएगा।

अच्छा काम करने से देश तो आगे बढ़ेगा ही आप भी उसके साथ आगे बढ़ोगे और आपका परिवार भी इस देश के साथ चल रहा है वो भी आगे बढ़ेगा। मैं ये लेख लिख रहा हूँ ये वेबसाइट साहित्य के विकास और बढ़ावे के लिए चला रहा हूँ किसलिए? देश में साहित्य और रचनाकारों के विकास के लिए। ताकि हमारा देश साहित्यिक क्षेत्र से पिछड़ा ना रहे। ठीक ऐसे ही हर इंसान किसी न किसी क्षेत्र में अपना योगदान देता रहे, तो ये देश हर क्षेत्र में अग्रणी होगा और अन्य देशों से आगे बढ़ता रहेगा। इसी के साथ मैं अपने शब्दों को यहीं विराम देता हूँ। धन्यवाद। जय हिंद, वन्देमातरम।

आज की इस पोस्ट में "26 January Speech In Hindi, 26 January 2020 Speech" आपके साथ हमने साझा की। गणतंत्र दिवस के लिए भाषण आपको जरूर पसंद आया होगा।

- लेखक योगेन्द्र "यश"

No comments:

Post a Comment