Breaking

Tuesday, 9 October 2018

आज की नारी: नारी पर कविता

आज की नारी

जब दीप जलाई है तो रोशनी बिखरेगी कहीं न कहीं
ये फ़िज़ा दुल्हन सी जरूर निखरेगी कहीं न कहीं

बेटियाँ नेमतें है जो सबको खुदा अता नहीं करता
बेटियों की हँसी से खुशियाँ दिखेंगी कहीं न कहीं

Nari

बस एक मौके की दरकिनार है इनके जज़्बों को
ये आज की नारी हैं,ये इतिहास लिखेंगी कहीं न कहीं

इस बेजान जम्हूरियत में बदलाव बहुत जरूरी है
आवाम की ज़बानें हैं ये ,सच कहेंगी कहीं न कहीं

कब तक ज़ुल्म दबा सकता है शराफत की तदबीरें
आग की जद में बेजान लाशें भी चींखेंगी कहीं न कहीं

- सलिल सरोज

No comments:

Post a Comment