Breaking

Tuesday, 28 August 2018

मोहब्बत अधूरी कहानी है:आज की कविता

मोहब्बत अधूरी कहानी है



मोहब्बत एक ये अदभुद अधूरी सी कहानी है,
जिसे पूरी ये करने में लगी लाखों जवानी है,

मगर न हो सकी पूरी,
अधूरी रह गयी बस ये,

कभी घर के रिवाजों में,
कभी ख़ुद की निगाहों में,

अधूरी रह गयी बस ये,
जमाने की खताओं में,

मोहब्बत एक ये अदभुद अधूरी सी कहानी है,
जिसे पूरी ये करने में लगी लाखो जवानी है,

दहकती दो दिलों की ये,
जवानी की कहानी है,

महकती ये राधिका सी अमर पावन कहानी है,
मोहब्बत एक ये अदभुद अधूरी सी कहानी है।

-  सतीश चंद्र

No comments:

Post a Comment